more children are engrossed in books the more country will develop said nishikant dubey


अध्यक्ष युधिष्ठिर राय ने कहा कि उनका वश चले, तो डॉ निशिकांत दुबे को आजीवन सांसद घोषित कर दें. इन्होंने पुस्तक मेले को करोड़ों दे दिये, लेकिन एक बार पैसे के संदर्भ में बात तक नहीं की. वहीं इनसे पहले के सांसद थे, एक बार एक लाख दिये थे, उसके लिए परेशान कर दिये थे. वे इस पुस्तक मेले से विमुख हुए, तो आजतक जीत के लिए तरस गये. कार्यक्रम में मेला संयोजक डॉ राय और अध्यक्ष ने सांसद को सम्मानित भी किया. मौके पर मेला व्यवस्थापक आलोक मल्लिक, मोतीलाल द्वारी, अलख निरंजन शर्मा, जीवन प्रकाश, शेषाद्रि दुबे, मिथलेश कुमार, रामचंद्र राय, उदय नारायण खवाड़े सहित समिति के अन्य सदस्य मौजूद थे. संचालन राम सेवक सिंह गुंजन ने किया.


Leave a Comment